Horizontal Banner
×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 807

32 करोड़ की योजना पर भाजपा पार्षदों की चुप्पी, अब उसी मुद्दे पर विधानसभा में बोलेंगे डॉ. रमन Featured

विधानसभा में उठेगा खैरागढ़ में जल आवर्धन योजना गड़बड़ी का मामला, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने ध्यानाकर्षण सूचना के तहत किया सवाल।

खैरागढ़. नगर पालिका परिषद की बैठक में सांसद प्रतिनिधि राकेश गुप्ता ने जब जल आवर्धन योजना को लेकर सवाल उठाया तो भाजपा के पार्षद खामोश रहे। ठीक इसी दिन पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इसी 32 करोड़ की योजना में गुणवत्ता को लेकर ध्यानाकर्षण सूचना के तहत विभाग से सवाल किया। अब विधानसभा सत्र के दौरान उनकी आवाज में खैरागढ़ का यह चर्चित मामला गंजेगा। Khairagarh: परिषद की बैठक के दूसरे दिन पार्षद ने खोली 32 करोड़ के योजना की पोल ...

पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने इस संबंध में नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग से सवाल किया है कि नपा क्षेत्र में जल आवर्धन योजना के तहत 31 करोड़ 35 लाख की प्रशासकीय स्वीकृति दी गई थी। इसके तहत पाइप लाइन बिछाने में गुणवत्ता अनदेखी की जा रही है। रेत-मुरुम के इस्तेमाल बिना निर्माण एजेंसी मनीष पाइप्स रायपुर को 11 लाख 67 हजार रुपए का भुगतान किया गया है। Khairagarh: 32 करोड़ की योजना को लेकर छाई खामोशी, फतेह मैदान की दुर्दशा पर गूंजी विनय की आवाज ...

नगर पालिका के जनप्रतिनिधियों को डीपीआर व माप पुस्तिका की वास्तिविक जानकारी नहीं दी जा रही। ठेकेदार मनमानी कर रहा है। काम में लापरवाही बरत रहा है। डॉ. रमन ने इसी मामले को लेकर विभाग से जवाब मांगा है।

उन्होंने कहा है कि रानी रश्मिदेवी सिंह जलाशय से गंजीपारा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट तक अंडर ग्राउंड पाइप लाइन से पानी उपलब्ध कराने के लिए पूर्ववर्ती सरकार ने कार्य स्वीकृत किया था। इसके ठीक विपरीत पानी टंकी से शहर के विभन्न वार्डों तक पाइप लाइन बिछाई जा रही है। वार्डों की सडक़ों को बेतरतीबी से खोदा जा रहा है। जबकि नगर में पहले से पाइप लाइन बिछी हुई है।

डॉ. रमन ने नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के मंत्री से जवाब मांगा और कहा है कि ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के लिए नगर के भीतर पाइप लाइन बिछाई जा रही है, जबकि इसकी आवश्यकता ही नहीं थी। इसके चलते क्षेत्र की जनता में आक्रोश है। खैरागढ़ की सियासत: नेता जी! कल उम्मीद की टोंटी थी, आज टोटा है!

पहले हल्ला मचाकर चुप रहे पार्षद

इससे पहले उपाध्यक्ष रामाधार रजक सहित भाजपा के पार्षद शेषनारायण यादव, गिरवर पटेल, नीलिमा गोस्वामी, शिवकुमार रजक, संजय गोड़, गायत्री डहरिया, गिरजा चंद्राकर, विनय देवांगन सहित सहिस्ता बानो सोलंकी ने सचिव को पत्र लिखकर गड़बड़ी की शिकायत की थी, लेकिन ऐन परिषद की बैठक में सभी आश्चर्यजनक रूप से खामोश रहे। Khairagarh: परिषद की बैठक के दूसरे दिन पार्षद ने खोली 32 करोड़ के योजना की पोल ...

सभापति और कांग्रेसियों ने भी कहा था गुणवत्ताहीन

सभापति मनराखन देवांगन सहित कांग्रेस के पार्षदों ने भी जल आवर्धन योजना के काम को गुणवत्ताहीन करार दिया था। सभापति ने खुद कहा था कि वे यह मामला परिषद में उठाएंगे। इसके बावजूद सामान्य सभा के एजेंडे में इसे शामिल नहीं किया गया। हालांकि अध्यक्ष मीरा चोपड़ा शुरू से इसके पक्ष में नहीं रहीं। उनके पति गुलाब चोपड़ा ने तो साफ कह दिया था कि किसी तरह की गड़बड़ी नहीं हो रही है। Khairagarh Politics: मनराखन का पलटवार- पहले वादा कर 15 साल भूले, अब विकास का विरोध कर रहे भाजपाई ...

पालिका प्रशासन में मचा हडक़ंप

डॉ. रमन सिंह के सवाल से नगर पालिका प्रशासन में हडक़ंप मचा हुआ है। सीएमओ, सब इंजीनियर सहित विभागीय कर्मचारी गुरुवार को भी जवाब बनाने में लगे रहे।

रागनीति के ताजा अपडेट के लिए फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर पर हमें फालो करें या हमारे वाट्सएप ग्रुप व टेलीग्राम चैनल से जुड़ें।

Rate this item
(0 votes)
Last modified on Thursday, 20 August 2020 22:24

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.