Horizontal Banner
×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 807

TikTok भी तोड़ेगा China से नाता, जानिए क्यों कर रहा है ऐसा Featured


रागनीति डेस्क. भारत में प्रतिबंध के बाद TikTok भी अब China से नाता नहीं रखना चाह रहा है। बाइटडांस लिमिटेड ने स्पष्ट किया है कि कंपनी टिकटॉक कारोबार के कॉर्पोरेट ढांचे में बदलाव करने की सोच रही है। यहां मूल कंपनी के चीनी ओरिजिन को लेकर अमेरिका चिंतित है। इसे लेकर कंपनी के एक्जीक्यूटिव्स की बैठक भी हो चुकी है। Also read: TikTok व Helo से मोह भंग, ShareChat से प्यार, डाउनलोड का आंकड़ा 1.5 करोड़ पार ...


बैठक में शामिल एक अधिकारी के अनुसार इसमें TikTok के लिए एक नया प्रबंधन बोर्ड बनाने को लेकर चर्चा हुई। इसके अलावा China के बाहर अन्य देशों में ऐप के लिए एक अलग मुख्यालय स्थापित करने जैसे विकल्पों को लेकर भी विचार किया गया। Also read: New Feature: Facebook पर आप भी पैदा करें अपना एनिमेटेड ‘अवतार’


न्यूज एजेंसी ब्लूम्बर्ग के अनुसार शार्ट वीडियो और संगीत ऐप TikTok  का वर्तमान में बाइट डांस से अलग मुख्यालय नहीं है। यह चीन के केमैन आइलैंड्स में स्थित है। वैश्विक आधार पर टिकटॉक अपना नया हेडक्वार्टर खोलने के लिए कई स्थानों पर विचार कर रहा है। 


इसके पांच सबसे बड़े कार्यालय लॉस एंजिल्स, न्यूयॉर्क, लंदन, डबलिन और सिंगापुर में हैं। वहीं एएनआई के मुताबिक China  के नया नेशनल सिक्योरिटी लॉ लाने के बाद TikTok  ने हांगकांग के मार्केट से हटने का फैसला किया है। Also read:  भारतीय कम्पनी का दावा : कोरोना की मेड इन इंडिया वैक्सीन बन गयी है, साल के आखिरी तक मिलेगी


TikTok  ने अपने एक बयान में कहा है कि वे अपने उपयोगकर्ताओं, कर्मचारियों, कलाकारों, रचनाकारों, भागीदारों और नीति निर्माताओं के सर्वोत्तम हित में आगे बढ़ेंगे। यह ऐप यूएस में सबसे अधिक डाउनलोड की जाती है और यह किशोरों के बीच खासी लोकप्रिय है।


पिछले दो हफ्तों से TikTok  को लेकर भारत समेत कई देशों से अच्छी खबरें नहीं आ रही हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को कहा था कि उनका प्रशासन ऐप पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहा है। अमेरिका द्वारा चीन के खिलाफ उठाए जा रहे कदमों में टिकटॉक को बैन करना भी एक है। Also read:

आस्ट्रेलिया भी कर सकता है बैन


भारत के बाद अमेरिका की सख्ती को देखते हुए आस्ट्रेलिया में भी कई सांसद TikTok  पर प्रतिबंधन लगाने का प्रस्ताव कर रहे हैं। लिबरल पार्टी के सीनेटर जिम मोलन ने तो यहां तक कह दिया है कि चीन सरकार टिकटॉक का उपयोग व दुरुपयोग कर रही है। Also read: TikTok व Helo से मोह भंग, ShareChat से प्यार, डाउनलोड का आंकड़ा 1.5 करोड़ पार ...


इधर टिकटॉक ने गुरुवार को जानकारी दी कि गाइडलाइंस का उल्लंघन करने पर उसने पिछले साल अपने प्लेटफॉर्म्स से 4.9 करोड़ से ज्यादा वीडियो को हटाया था। इनमें से लगभग एक तिहाई वीडियो भारत के थे। इसके बाद सबसे ज्यादा वीडियो अमेरिका व पाकिस्तान के थे।

रागनीति के ताजा अपडेट के लिए फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्वीटर पर हमें फालो करें या हमारे वाट्सएप ग्रुप व टेलीग्राम चैनल से जुड़ें।

Rate this item
(1 Vote)
Last modified on Saturday, 11 July 2020 12:34

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Latest Tweets

बंकिम दृष्टि/ सियासत के मुरलीधर को सट्टे की रियासत- प्राकृत शरण सिंह @ChhattisgarhCMO @amitjogi @DPRChhattisgarh… https://t.co/rflkJAgBJl
खैरागढ़ में चार बच्चों सहित 24 संक्रमित, 80 साल के बुजुर्ग को भेजा एम्स, बिना मास्क वालों पर बढ़ाई सख्ती -… https://t.co/PCdmzTeTiu
खैरागढ़ में चार बच्चों सहित 24 संक्रमित, 80 साल के बुजुर्ग को भेजा एम्स, बिना मास्क वालों पर बढ़ाई सख्ती… https://t.co/HTgJDTWuOO
Follow Ragneeti on Twitter